रविवार, 26 जून 2011

ओ अषाढ़ के प्यारे बादल

ओ अषाढ़ के प्यारे बादल
भीगने दो धरती का आँचल
शीतल बूंदों की छम छम से
बजने दो खुशियों की पायल ||1||

ग्रीष्म ऋतू की उष्ण हवाए
सबको कर देती घायल
ओ घुंघराले काले बादल
झूम झूम कर बरसा दो जल ||2||

कोकिल की मीठी स्वर लहरी
आमंत्रित करती श्यामल
संवेदना की प्रतिमूर्ति बन
शुष्क जगत को करो तरल ||3||

तेरी चाहत के दम पर ही
जीवित जग की चहल पहल
स्नेह भले ही नभ से रखना
दिखला देना छवि धवल ||4||

शोषक बनकर रवि किरणों ने
सौख लिया पानी निर्मल
सूखी सरिता की रेती के
कण कण में फैला हल-चल ||5||

ओ इन्द्रलोक के रहने वाले
मुक्त हवा संग बहने वाले
बनो नहीं तुम उच्छ्रंख्ल
बन जाओ दुखियो के संबल ||6||

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें