सोमवार, 13 मार्च 2017

यहाँ रंग कही गहराया है

जीवन की आपा धापी में
                   अब वक्त कहा मिल पाता है 
फागुन की मस्ती छाती है
                  मन मन ही मन कुछ गाता है 

है सहज सरल से तरल नयन 
                   मौसम में रंगत आई है 
बच्चो की शक्ले  निखर रही 
                    बस्ती ने रौनक पाई है 
संसार सगो का मैला है 
                   इंसान अकेला ही जाता है 

यहाँ बदन गठीला मोहे मन 
                     सुंदरता सबको भाती है 
भीतर जो होती कोमलता 
                   ओझल होकर रह जाती है 
मानव मन का यह दोहरापन 
                      सौंदर्य कहा रख पाता है

यहाँ समय सदा ही सपनो सा
                     खुश किस्मत ने ही पाया है 
दुःख सह कर भी मद मस्ती का 
                        यहाँ रंग कही गहराया है 
सुख की है छाँव नहीं आती 
                     सुख सपनो का कब आता है

यह रंग बिरंगी दुनिया है 
                          रंगों में सब कुछ पाया है 
फागुन में बसते रंग रहे 
                        जिसे झूम झूम कर गाया है 
रंगों में मस्ती नाच रही 
                       यह रंग बहुत सिखलाता है

2 टिप्‍पणियां: