सोमवार, 2 जुलाई 2012

हे गुरु देवो नमो नम :

गुरु शुरू से साथ रहे ,गुरु सत्ता असीम
हे गुरु देवो नमो नम
: ,लघुता कर दे भीम 
                          -
गुरु तत्व चहु खींच रहा ,हो जाओ अब लीन
ज्यो ज्यो उसमे लीन हुआ ,हुआ कुशल प्रवीण 
                           -  
गुरु चरणों की आस रही ,प्यासे रहते नैन
दर्शन दो गुरुदेव हमें ,तव दर्शन से चैन 
                         -
आज्ञा प्रज्ञा चक्र है ,भेद सके तो भेद
गुरु बिन ज्ञान नहीं मिला ,पढ़ ले चाहे वेद
                      -
गुरु ज्ञान का रूप है ,गुरु छाँव है धूप
धूप तेज और ओज दे ,छाया मात स्वरूप 
                        -
गुरु आशीष से ईश मिले ,गुरु हाथो तपिश
जप तप करते नहीं मिले ,सद्गुरु है जगदीश 
                           -
गुरु बिन मन व्याकुल रहा ,तन मन
है गुरुकुल
अब
कोई मोल मिले ,गुरु चरणों की धुल 
                          -
गुरु पाये थे राम ने ,गुरु पाये हनुमान
गुरु अर्जुन के द्रोण रहे
,जगदगुरु घनश्याम
                         -
गुरु पूर्णता सींच रहे ,खींच रहे है कान
हे गुरु देवो नमो
: नम तुमसे पाया ज्ञान
                           - 
दत्तात्रय गुरु देव हुए ,दे गये अमृत ज्ञान
हर कण में बिखरी हुई ,गुरुता को पहचान 

                        -
गुरुवर विश्वामित्र हुये,गुरुवर रहे वशिष्ठ
गुरु देवो के देव रहे ,दत्त गुरु विशिष्ट

                        - 
गुरुवर परशुराम रहे ,बृहस्पति गुरुदेव
लघुता न कभी साथ रहे ,गुरुता संग सदैव

 
 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें