सोमवार, 7 मई 2012

सुख शांति कहा मिल पाती है

  होठो ने  ओढ़ी ख़ामोशी ,दृष्टि प्रीती को पाती है 
प्रीती  की सूरत है भोली पर ,मंद मंद मुस्काती है
                                         - 
राह थकन ही देती है ,मुश्किल से मंजिल आती है 
जीवन है कांटो में पलता चाहत कुचली ही जाती है
                                                              -
 सपनो में खिलती है  उषा , निशा में जलती  बाती है 
है ध्येय बड़ा और तिमिर खड़ा  आशा पलती ही जाती है
                                            - 
कही कृष्ण कन्हैया की बंशी गोपी के घर तक जाती है 
जीवन में आपा धापी है ,सुख शांति कहा मिल पाती है
                                                              -
संध्या  में काली निशा है ,उषा निशा से आती है  
उषा में जीवन की आशा ,भाषा अब नव गीत गाती है
                                            - 
ऋतुये आती है जाती है , खुशबू फूलो में लाती है
तरु बेलो  पे कपोल कपल,फल पत्तो को बिखराती है
                                            -

सत्ता के मद मे हो पागल मद मस्त हो रहा हाथी है
दुर्बल जनता की चींखे,तम चीर-चीर कर आती है
                                 - 

निर्धन दुखियारे की चिंता,सिहासन को कब आती है
नेता मे घटती नैतिकता,बनी राज-नीती कुल घाती है
                                           - 
बचपन के द्वार खडा यौवन,खोये बचपन सहपाठी है
यह गेह देह होकर दुर्बल ,आयु  घटती ही जाती है
                                         - 
अश्को से प्यास बुझी जाती और  छन्दो से हर्षाती है
उर-अंतर मे गुंजित होकर,गीतो मे पीडा आती है
 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें