शनिवार, 22 जनवरी 2011

sahas

तेरे आने की खुशी ने जगा दी है आस
और जाने के ही गम से हो गये उदास
रहते हो जब तुम मेरे आस-पास
दूर हो जाती है उलझने मिलता जीने का साहस

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें