रविवार, 4 मार्च 2012

नारी

चन्दा  संग है ढली चाँदनी 
पूर्ण चन्द्रमा बना सिकंदर
                -
 तन मन सुन्दर चिंतन सुन्दर 
 धरा हरी तो जीवन सुन्दर 
 माता का ममतापन  जिसमे 
रूप पत्नी सा अनुपम सुन्दर 
               -
बिटिया सी प्यारी न्यारी है 
,प्यार है पाया सात समंदर
 करते क्यों छलनी अवनी को 
हीरे मोती इसके अन्दर
              -
 नारी की काया छाया से 
जग में होता हर पल सुन्दर 
 नियति भी नारी का रूप 
बहती सरिता महका अम्बर
                  -
विनीता सम सरिता है रहती 
सरिता से मिलता है समंदर 
 नारी का आश्रय  मिलते ही 
सुधरा जीवन हटे बवंडर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें