बुधवार, 23 जनवरी 2013

याद मे देखू छवि



-->
http://fc01.deviantart.net/fs70/i/2010/248/d/a/sad_face_in_sketch_by_widya_poetra-d2y22da.jpgसोंचता हूँ प्यार का इजहार कैसे मै करु

                   दर्द से चींखू यहा पर या फिर जमाने से डरु


                   दर्द मे लिपटी हुई ,दिलवर तुम्हारी याद है

                     रूप की हल्की झलक है थोड़ा सा संवाद है

                       याद मे देखू छवि और दैख कर आहे भरु


                      दूरिया मजबूरिया है  राह पे न फूल है

                       चाहते रहती अधूरी बिखरी हुई चहु धूल है

                       पंथ पर मै पग धरु और चाह पर मिट कर मरू

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें