गुरुवार, 29 अगस्त 2013

गलतिया

जीवन में गलतिया हर व्यक्ति से होती है
परन्तु गलतियों की पुनरावृत्ति बुरी आदतों का कारण होती है
बुरी  आदते व्यक्ति को अपराधी बना देती है
जब लोग गलतियों को बर्दाश्त करते है
 तो व्यक्ति स्वयं को सही मानने का भ्रम पाल लेता है
अपराध की तह तक जाने के लिए
अपराधी की मानसिकता तक जाना होता है
अपराधी के मनो मष्तिष्क के भीतर विचरने वाले विचारों
 षड्यंत्रों को पाना होता है
इसलिए गलतियों को मत दोहराओ
गलतिया करने वालो को
 जहा  भी अवसर मिले गलत जरुर ठहराओ
यह सच है इंसान गलतियों का पुतला है
पर गलतिया करते हुए यहाँ कोई इंसान नहीं निखरा है
गलत स्पष्टि करणों  से झूठा हुआ आदमी 
व्यक्तित्त्व बिखरा है

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - शुक्रवार 30/08/2013 को
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः9 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra

    उत्तर देंहटाएं
  2. शिक्षाप्रद अच्छी रचना |
    "यह सच है इंसान गलतियों का पुतला है ------व्यक्तित्व बिखरा है |"
    मन को छूती पंक्तियाँ |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं