रविवार, 4 अगस्त 2013

कौन नहीं चाहता

संसार  में कौन नहीं चाहता की उसके शत्रु नहीं हो ?
यह धरा सभी और मित्रो और हितैषियो सी घिरी हुई हो
कौन नहीं चाहता की वह सभी प्रकार की आशंकाओं और भय से मुक्त हो ?
सभी प्रकार से सुरक्षित हो जीवन आनंद और उल्लास से युक्त हो
कौन चाहता वह योध्द्दा अपराजेय हो ?
वैभव और ऐश्वर्य से हो युक्त होती रहे चहु और उसकी जय जय हो
संसार में कौन नहीं चाहता वह गुणवान और विद्वान हो ?
महकती रहे यामिनी बिखरी  तारो सी  मुस्कान हो
कौन चाहता वह सूर्य सा तेजस्वी हो ?
व्यक्तित्व में हो शीतलता व्यक्तित्व ओजस्वी हो
पर इतना सब कुछ  चाहने से क्या होता है
पल्लवित परिवेश में वही  होता है 
 जैसा हमारे कर्म का बीज होता है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें