बुधवार, 1 अगस्त 2012

छा गई है क्यों उदासी

मुस्कराहट छीन गई है मेरे अपने इस शहर से
छा गई है क्यों उदासी ,आंधीया आई किधर से

गैरो को हम दोष क्यों दे ,टूटते रिश्ते बिखर के
आचमन होते लहू के ,अब घृणा आई संवर के
टूटती ही जा रही है, मानवीयता भीतर से

दंगो ने है घर जलाए ,दंगे सपनो को रुलाये
माँ की ममता रो रही है ,बेटो को कैसे सुलाए
भीड़ में तो भेडिये है ,लाशें आई है जिधर से

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें