गुरुवार, 23 जुलाई 2015

चहकी नदिया महका जंगल





बरसी ज्यो बारिश की बूंदे 
प्रियतम चाहत हुई घायल 
चित चोर मोरनी थिरक रही 
छम छम सी बजती बिन पायल 
सरिता में धारा की हलचल 
मद मस्त हिलोरे हुई चंचल 
उठ और पखेरू उड़ता चल 
राह ताक रहे जल के बादल 
आशा क्यों अस्त हुई जाती 
दीपक की बाती  सा तू जल 
हो निर्मल मन उजला सा तन 
चहकी नदिया महका जंगल

गीता

गीता  एक  ग्रंथ  नहीं एक  विचार  है   गीता  विचार  ही  नहीं   जीवन दर्शन  है  गीता  कृष्ण का अर्जुन को  दिया   अलौकिक  ज्ञान  है  अलौकिकता स...