संदेश

जनवरी, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

नव संवत्सर मंगलमय हो

नवीन वर्ष में नवीन हर्ष हो  नई सोच हो नया जोश हो नई नई आशा और भाषा  गढ़ी हुई अभिनव परिभाषा साथ रहे जजबात नए हो  जीवन मे दिन रात नए हो नया नया घर का हर कोना सुख सपनो का रहे बिछौना  चपल उमंगे नवल तरंगे कटती लुटती उड़ी पतंगे नई नई श्रध्दा हो भक्ति नई नई कविता अभिव्यक्ति नई साधना नई हो सूक्ति नव आराधन हो जाये मुक्ति  नई पवन हो नया गगन हो उर में रहती नई अगन हो नई कामना नई लगन हो जीवन सारा रहा मगन हो नवीन क्षितिज हो नया सवेरा नया नया हो सूरज मेरा नए वर्ष का नया हो फेरा भाव सुनहरा जग मग चेहरा प्राची में अरुणाई नव हो तेज धवल तरुणाई नव हो नवीन निशा जब गहराई हो नवल चेतना भर आईं हो सांझ सुनहरी घिर आई हो करुणिम मां की परछाईं हो सजल आंख हो भर आईं हो नवल वर्ष का नया बसेरा मधु खग कलरव बाग में डेरा  तरुवर जलचर सरोवर ठहरा  चित में चिंतन हो जाए गहरा पल पल हर पल जीवन लहरा नवल पताका का ध्वज फहरा नवल चेतना नवल पिपासा नही निराशा हर पल आशा पल पल तोला हर पल माशा सत के रथ का अभ्युदय हो  तन मन मे ऊर्जा अक्षय हो अंतिम जन का अंत