शनिवार, 9 मार्च 2019

यहाँ जाग रहा है अणु अणु

यह कंकड़ पत्थर है शंकर 
  हर कण में रहते है विष्णु
  है संतुलन उनके भीतर
  कृष्णा की प्रियतम है वेणु 

  यह प्रीत रीत ही ऐसी है
  भावो से भगवन आये है
  मीरा की भक्ति प्रीत रही  
राधा ने  सचमुच पाये है
  भक्ति की जलती ज्योत रही  
यहाँ जाग रहा है अणु अणु

गीता

गीता  एक  ग्रंथ  नहीं एक  विचार  है   गीता  विचार  ही  नहीं   जीवन दर्शन  है  गीता  कृष्ण का अर्जुन को  दिया   अलौकिक  ज्ञान  है  अलौकिकता स...