बुधवार, 26 जून 2013

हे भगवन लौटा दे, वापस मुस्कान

भींगी हुई  दोपहर ,भींगी  हुई शाम 
भींगा  हुआ हर पल ,बह गये  धाम 

तीर्थो में  भर  गये  है , सारे  ही  कुंड 
क्षत -विक्षत  लाशें  है, बिखरे नर  मुंड 
बहुतेरे  मिल  गये है, ढेरो  गुमनाम 

बदला है बारिश  ने ,कितना  भूगोल 
पैरो  में छाले है, बम  हर हर तू बोल 
हे भगवन  लौटा  दे, वापस  मुस्कान 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कोई चीन चीज

चीनी से हम छले गये ,घटना है प्राचीन ची ची करके चले गए, नेता जी फिर चीन सीमा पर है देश लड़ा ,किच किच होती रोज हम करते व्यापार रहे, पलती उनकी फ...