शनिवार, 15 जनवरी 2011

समाधान थोड़े


सवालों की भीड़ है समाधान थोड़े

ऊसर बालुकामय डिगा नहीं निश्चय
पथ पर धंसे पग त्रिस्नाये तोडे ,


मंजिल भी तो दूर मुश्किलों से भरपूर
निराशा के दम पर क्या सामर्थ्य को निचोड़े
,

बरसते है पीठ पर समस्यायों के कौड़े
गिरते सम्हलते सपने तो जोड़े


दायित्वों के गठ्ठर लदे हुए सर पर ,
सवालों की भीड़ है समाधान थोड़े

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कोई चीन चीज

चीनी से हम छले गये ,घटना है प्राचीन ची ची करके चले गए, नेता जी फिर चीन सीमा पर है देश लड़ा ,किच किच होती रोज हम करते व्यापार रहे, पलती उनकी फ...