मंगलवार, 22 जनवरी 2013

प्यार सच्चाई है


प्यार पागलपन ,है प्यार मे गहराई है
बजती रही दिल मे प्यार की शहनाई है
अदाये तेरे प्यार की इस दिल मे समाई है
प्यार भोलापन विश्वास है प्यार सच्चाई है

प्यार दिलो मे पलता है दिलो को छलता है
ख्वाब अरमानो मे पलता है सपनो मे मचलता है
दर्द की कीमत पर निकलते है आंसू
दर्द आंसुओ के रुप मे आँखों से निकलता है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कोई चीन चीज

चीनी से हम छले गये ,घटना है प्राचीन ची ची करके चले गए, नेता जी फिर चीन सीमा पर है देश लड़ा ,किच किच होती रोज हम करते व्यापार रहे, पलती उनकी फ...