शुक्रवार, 2 अप्रैल 2021

दिखती दूर तक रेत

जीता मरता रोज यहां, जीवन उसका ताप
मजदूरों की पीड़ा को , नाप सके तो नाप

उनकी अपनी थी शंकाये, उनके अपने डर
तू अपने हर सपने को , निर्भयता से भर

दिखती दूर तक मरुधरा, दिखती दूर तक रेत
गिरकर उठता रोज यहाँ, टपका जिसका स्वेद

जितने भी थे लौट गये , अपने अपने घर 
सूरज उगता अस्त रहा ,उसका तेज प्रखर


6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शुक्रवार 02 अप्रैल 2021 शाम 5.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर सृजन।
    हृदय स्पर्शी।

    जवाब देंहटाएं
  3. दिखती दूर तक मरुधरा, दिखती दूर तक रेत
    गिरकर उठता रोज यहाँ, टपका जिसका स्वेद।
    बहुत भावपूर्ण । सुंदर अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  4. गिरकर उठता रोज यहाँ, टपका जिसका स्वेद
    शब्दों का अच्छा चयन...

    सुन्दर लेखन

    मेरी रचनायें पढ़ें, अच्छी लगे तो लाइक और शेयर करें

    इन्क़िलाब

    जवाब देंहटाएं