शनिवार, 12 मई 2012

कल

कल में बसता हल है 
,कल को लेकर चल 
जो कल के न साथ चला मिले है अश्रु जल 
कल की जिसको चाह  नही 
वो क्या जाने फल 
हर पल सुधरा आज तो 
सुधरे  कल हर पल 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कोई चीन चीज

चीनी से हम छले गये ,घटना है प्राचीन ची ची करके चले गए, नेता जी फिर चीन सीमा पर है देश लड़ा ,किच किच होती रोज हम करते व्यापार रहे, पलती उनकी फ...