बुधवार, 29 फ़रवरी 2012

तुम सरिता बनकर मिल लेना


ओ चंद्रमुखी चंचल नयना ,
अब और अधिक हमे मत छलना
अंखिया सखिया जब हमसे मिले ,
  हृदय प्रिया कही मत तकना

छवि अंकित थी हृदय मे सदा
,हर एक अदा पर हम थे फिदा
थे प्रणयातुर तेरे नयना,
अब मिलते नही क्यो यदा कदा ?
लिये बाली उमर मटकाये कमर ,
चलो प्रेम डगर तुम सम्हलना।। १।।

सुमधुर मधुर तेरी बाते ,
थे उजले दिन महकी राते
तेरी पायलिया की छम छम ,
सुन दिल तेरे पग पर बिछ जाते
चंपा कि कलि आजा  मेरी गली ,
  औरौ की गली तुम मत चलना ।।२।।

सपनो का धरातल कब होता ,
जीवन तो हकीकत को ढोता
मन पंछी बन नभ मे उडता,
सागर मे लगाता है गोता
सागर मे सरिता बह आई ,
तुम सरिता बनकर मिल लेना ।।३।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कोई चीन चीज

चीनी से हम छले गये ,घटना है प्राचीन ची ची करके चले गए, नेता जी फिर चीन सीमा पर है देश लड़ा ,किच किच होती रोज हम करते व्यापार रहे, पलती उनकी फ...