शनिवार, 23 मई 2020

घर मे है जगदीश

भीड़ में न विवेक रहा भीड़ बढ़ने से रोक
भीड़ में से ही लाश मिली कोरोना का रोग

 उसका था जो चला गया,रहा नही कुछ अंश 
 नगरी नगरी  दाग लगा , कोरोना का दंश

महामारी से दूर रहो ,खुद का करो बचाव
घर मे ही बस मौज करो  मन में न भटकाव

जीवन का कोई मूल्य नही यह तो है अनमोल
बाहर तो है आग लगी, भीतर के पट खोल

तीर्थो में कब ईश मिला घर मे है जगदीश
मन को मंदिर मान लिया  नित होता नत शीश

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कोई चीन चीज

चीनी से हम छले गये ,घटना है प्राचीन ची ची करके चले गए, नेता जी फिर चीन सीमा पर है देश लड़ा ,किच किच होती रोज हम करते व्यापार रहे, पलती उनकी फ...