शुक्रवार, 18 जून 2021

अंधी धन की भूख


अंधियारी इक रात हुई अंधियारे में बात
अंधियारे में हुई साधना,अँधियारा सौगात

अंधी बहरी हुई वेदना, अन्धा  बहरा युग
अंधी होती रही कामना , अंधी धन की भूख

अंधी होती रही आस्था, आस्था का सम्बल
सीधा सच्चा चलो रास्ता , फैले है दल दल

अंधो की न हुई शाम है , हुये दिन न रात
अन्धो का है यही ठिकाना, अन्धो के दिन सात

अंधो की है रही वेदना,, कर लो तुम अहसास
भीतर उनके रही चेतना, अनुभव मोती पास 

अंधे बहरे मौन रहे , सम्वेदना से शून्य
सम्बन्धो से रिक्त हुए , ऐसे कैसे पुण्य


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

स्वर्ण से अब तक खरे है

पेड़ से पत्ते झरे है फूल से रस्ते भरे है सरसराती झाड़ियां है आ रही कुछ गाड़ियां है तोड़ते ख़ामोशियों को झुण्ड में झुरमुट खड़े है अंतहीन यहा ...