गुरुवार, 31 दिसंबर 2020

जगे भाग्य की रेख

नित अभिनव की प्यास रहे, नूतन नित उल्लास
नवीन वर्ष में सोच नई हो , हो मन मे विश्वास

जग में होते पंथ कई, ईश्वर फिर भी एक
नये वर्ष में नई उमंगे, जगे भाग्य की रेख

जब तक न संतोष रहा, जीवन होता शाप
नवीन वर्ष में हटे अंधेरा , कट जायेगे पाप

मन्दिर बजते शंख रहे, घंटी सजते थाल
होता सच्चा कोष वहाँ , जो मन से खुशहाल

चित में तो सन्यास नही , चिन्तन में न राम
फिर भी भगवा वेश धरा, इच्छा रही तमाम




1 टिप्पणी: