शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2020

माँ शिक्षक स्कूल

माँ मोहक मुस्कान रही माँ अमृत का घूँट
माँ वत्सलता बाँट रही लूट सके तो लूट

माँ उर्जा में ज्योत रही ,माँ शिक्षक स्कूल
माँ का संग हर बार मिला माता पल अनुकूल

माँ शेरो पर सैर करे, होकर के निर्भीक
माँ सज्जन की पीर करे हर पल स्वाभाविक

माता जड़ और मूल रही माँ अंकुरित बीज
माता का सत्कार करो ,दुख न दो हरगिज

जब भी माता साथ रही मिलती है हर चीज
माता तिथि दूज रही , माँ होती है  तीज 

शक्ति देती साथ रहे , भक्ति दे सम्बल 
माता का कर माथ रहे ,ममता दे हर पल





1 टिप्पणी:

कोई चीन चीज

चीनी से हम छले गये ,घटना है प्राचीन ची ची करके चले गए, नेता जी फिर चीन सीमा पर है देश लड़ा ,किच किच होती रोज हम करते व्यापार रहे, पलती उनकी फ...