बुधवार, 21 अक्तूबर 2020

नभ उड़ने की चाह

माता का वरदान रहा, माता का है शाप
माता वो ही पायेगा , जो होगा निष्पाप

माता जी चैतन्य रही , भक्ति कर अन्यन्य
भक्ति से कर पायेगा , जीवन अपना धन्य

मन चिंतन अविराम रहा, नभ उड़ने की चाह
माता सच की लाज रखो ,सच होता है स्वाह

सच्चाई की राह कठिन ,झूठ के पर अनगिन
सच न अब उड़ पायेगा, डसती है नागिन

झूठ की होती बात कई ,सच की करनी एक
सच ही पूजा जायेगा, सत का पथ ही नेक 


2 टिप्‍पणियां:

कोई चीन चीज

चीनी से हम छले गये ,घटना है प्राचीन ची ची करके चले गए, नेता जी फिर चीन सीमा पर है देश लड़ा ,किच किच होती रोज हम करते व्यापार रहे, पलती उनकी फ...