मंगलवार, 27 अक्तूबर 2020

परिभाषा अभिनव


उलझा उनका आज रहा 
उलझा उनका कल
मिले जुले जब साथ चले
मिल जाते सब हल

सबके अपने भाव रहे 
 सबका अपना भव
सबके अपने अर्थ रहे 
 परिभाषा अभिनव

अपनो से वे दूर रहे
 गैरो से वे पास 
गैरो से भी नही मिला 
किंचित भी विश्वास

मंजिल उसको नहीं मिली ,
जो चलता अनुकूल
चलता नाविक जीत रहा 
धारा के प्रतिकूल

रावण में न धैर्य रहा 
धीरज धरते राम
धीरज जिसने पाया है 
बन जाते सब काम




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कोई चीन चीज

चीनी से हम छले गये ,घटना है प्राचीन ची ची करके चले गए, नेता जी फिर चीन सीमा पर है देश लड़ा ,किच किच होती रोज हम करते व्यापार रहे, पलती उनकी फ...